Urban India

Volume: XXXV | Issue: 2

While the earlier half of 2015 would be remembered for of some of the most promising national initiatives unveiled for cities by the Ministry of Urban Development (MoUD), Government of India, namely the Smart Cities Mission, Atal Mission for Rejuvenation and Urban Transformation (AMRUT), National Heritage City Development and Augmentation Yojana (HRIDAY) and last but not the least, Housing for All; the second half of 2015 is noticeable for several global initiatives that pose to hold substantial influence on local developmental issues particular to urban environment, planning and governance.

Volume: XXXV | Issue: 1

The early half of 2015 has been quite eventful for communities, scholars and practitioners associated with urban India. It has seen the official launch of some of the most promising initiatives unveiled for cities by the Ministry of Urban Development (MoUD), Government of India, namely the Smart Cities Mission, Atal Mission for Rejuvenation and Urban Transformation (AMRUT), National Heritage City Development and Augmentation Yojana (HRIDAY) and last but not the least, Housing for All. Collectively the schemes pose to be a reckoning and unprecedented force of such a scale, in transforming the living conditions of so many city dwellers in a planned manner in the history of human civilization.

Volume: XXXIV | Issue: 2

शहरी भारत का यह विशेष अंक सैद्धांतिक समझ, सूचना और क्षमता निर्माण और संबद्ध शहरी सुधारों की सार्थक वर्तमान नीति प्रवचन सूचित करने हेतु राष्ट्रव्यापी स्थिति पर अनुभवजन्य निष्कर्ष के लिए समर्पित है।

Volume: XXXIV | Issue: 1

प्रवासन पर विशेष मुद्दे भारत में आंतरिक प्रवास का सूक्ष्‍म सिंहावलोकन और क्षेत्र से अद्वितीय अंतर्दृष्टि को प्रस्तुत करता है।

Volume: XXXIII | Issue: 2

यह संस्करण शहरी बुनियादी क्षेत्र में सुधार की पहल, शहरी स्थानीय प्रशासन और अपशिष्ट जल प्रबंधन, बुनियादी सुविधाओं का उपयोग, शहरी संपत्ति के स्वामित्व के रिकॉर्ड और महानगरों के संकेतकों पर चर्चा जैसे आर्थिक प्रदर्शन, रोजगार की स्थिति, गरीबी, असमानता को संदर्भित करता है।

Volume: XXXII | Issue: 2

इस संस्करण का संबंध उन विषयों की श्रृखला से है जिसमें संपत्ति कर, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमों, शहरी सार्वजनिक स्थल, शहरी सुधार, शहरी स्थानीय निकाय में ऊर्जा दक्षता, शहरी बुनियादी ढांचा के वित्‍तपोषण, शहरी गरीबी उन्मूलन और दिल्ली बस रैपिड ट्रांजिट (बीआरटी) परियोजना पर चर्चा की गई है।

Volume: XXXII | Issue: 1

प्रकाशन में मुंबई की मलिन बस्तियों पर अंतर्दृष्टि और अमृतसर में मलिन बस्तियों समाजशास्त्रीय परिप्रेक्ष्य का प्रावधान किया गया है जिसमें कम आय वाले किराये के मकान की सख्त जरूरत की समझ को उजागर किया गया है। इसके अलावा, अन्य लेखों में गैर-औपचारिक पानी खनन, भागीदारी शासन में पहल, गैर-कर राजस्व को अधिकतम बनाने, शहरी सार्वजनिक निजी भागीदारी परियोजना और ग्रीन तथा स्थायी शहरों के लिए आईसीटी पर जोर दिया गया है।

Volume: XXX1 | Issue: 1

प्रकाशन में शहरीकरण और भारतीय शहरों में बुनियादी सुविधाओं के उपयोग, शहरी स्थानीय निकायों की क्षमता निर्माण, शहरी गरीबों के संकट, ऐतिहासिक जिलों का पुनरुद्धार, सुधारों की पहचान, शहरी आवास, विकेन्द्रीकृत नगरीय प्रशासन और नागरिक भागीदारी की भूमिका का पता लगाया गया है।

Volume: XXX | Issue: 2

पत्रिका में शहरों में ग्रीन स्‍थलों पर लेख, आईटी और आईटी समर्थित सेवाएं, शहरी क्षेत्र के वित्तपोषण के लिए नगर निगम के क्रेडिट रेटिंग, जीवन की गुणवत्ता, संपत्ति कर सुधार, टिकाऊ परिवहन सिद्धांत, स्‍लम भारत के सामाजिक-आर्थिक स्थिति और संस्थागत तत्परता के लिए सार्वजनिक निजी भागीदारी का उल्‍लेख किया गया है।

Volume: XXX | Issue: 1

संस्करण में शहरी भारत की चुनौतियों, झुग्गी मुक्त शहरों का निर्माण, सुधारों मार्ग और सुशासन की दिशा में प्रगति, शहरी गर्म द्वीप समूह में जीआईएस आवेदन का उपयोग, शहरी-ग्रामीण इलाकों की ब्रिजिंग, चंडीगढ़ परिधि क्षेत्र और शिमला नगर के पानी की आपूर्ति प्रणाली के पुनरावलोकन के लिए अध्ययन पर प्रकाश डाला गया।

Pages