पीयर एक्‍सपीयरेंस और रेफ्लेक्टिव प्रोग्राम (पर्ल)

वर्ष 2005 में शहरी विकास मंत्रालय, भारत सरकार ने एक सुधार आधारित राष्‍ट्रीय निवेश कार्यक्रम शुरू किया जो जवाहरलाल नेहरू राष्‍ट्रीय शहरी नवीनीकरण मिशन (जेएनएनयूआरएम) शीर्षक वाले कार्यनीतिगत अवसंरचना निवेश के जरिए भारत में विकासशील शहरों पर लक्षित था।

जेएनएनयूआरएम वाले शहरों के बीच क्रॉस लर्निंग तथा ज्ञान के आदान-प्रदान के जरिए क्षमता निर्माण की उभरती हुई आवश्‍यकताओं के प्रत्‍युत्‍तर में पीयर एक्‍सपीयरेंस और रेफ्लेक्टिव लर्निंग प्रोग्राम (पर्ल) की शुरूआत वर्ष 2007 में की गई थी। रा.न.का.सं. को पीयर एक्‍सपीयरेंस और रेफ्लेक्टिव प्रोग्राम (पर्ल) के लिए राष्‍ट्रीय समन्‍वयक के रूप में पुन:नामित किया गया था।

पीयर एक्‍सपीयरेंस और रेफ्लेक्टिव प्रोग्राम (पर्ल) का उद्देश्‍य पीयर समूहीकरण के द्वारा प्रबंधनीय नेटवर्कों के सृजन के जरिए जेएनएनयूआरएम के बीच ज्ञानके आदान-प्रदान तथा क्रॉस लर्निंग में वृद्धि करना है।

सिटिज एलायंस द्वारा सहायता प्राप्‍त पर्ल संबंधी ज्ञान सहायता की शुरूआत वर्ष 2010 में शहरों की ज्ञान संबंधी आवश्‍यकताओं की उपलब्‍धता के संदर्भ में कार्य नीतिगत सहायता के जरिए तत्‍कालीन क्षैतिज शिक्षण नेटवर्क का सुदृढ़ीकरण करने, संकल्‍पना नोटों, कार्यक्रम संक्षिप्‍त आदि के संदर्भ में ज्ञान आदान-प्रदान पहलों के अभिकल्‍पण में इन्‍पुट प्रदान करने तथा अंतत: पर्ल को अन्‍य राष्‍ट्रीय तथा अंतर्राष्‍ट्रीय ज्ञान आदान-प्रदान नेटवर्क के साथ जोड़ने के लिए किया गया था ताकि ज्ञान के आदान-प्रदान एवं विनियम में उनकी सुविज्ञता उपलब्‍ध करवाई जा सके।