प्रो. जगन शाह, निदेशक; (रा.न.का.सं.) ने 'शहरों को रहने योग्‍य, रोजगार योग्‍य और स्‍थायीवत बनाना' विषय पर मुख्य व्‍याख्‍यान दिया (19-20 फरवरी 2015)

Submitted by niuaadmin on 12 जनवरी 2016 - 10:15am
Hindi

भारत एम2एम + आईओटी फोरम 2015, सरकार और उद्योग विशेषज्ञों को एक साथ लाया, जिन्‍होंने बनाए गए थीम के भीतर बहुत से विषयों पर चर्चा और विचार-विमर्श किया गया। पहले दिन की शुरूआत विशिष्‍ट अतिथि, हर एक्‍सेलेंसी श्रीमती दर्जा बावड़ा कुरेत, राजदूत, भारत में सोल्‍वेनिया गणतंत्र का दूतावास द्वारा संक्षिप्‍त व्‍याख्‍यान से हुई, जिन्‍होंने स्लोवेनिया में तकनीकी तरक्‍की और भारत व सोल्‍वेनिया के बीच मशीन-टू-मशीन और इंटरनेट ऑफ थिंग्‍स (आईओटी) स्‍पेस में मेल को हाईलाईट किया।

श्री ए.के. भार्गव, सदस्य प्रौद्योगिकी, दूरसंचार विभाग (डॉट), संचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार ने अपने मुख्‍य भाषण में 'एमटूएम और आईओटी के विजन को वास्‍तविकता में बदलना’ पर भारतीय परिप्रेक्ष्य पर प्रकाश डाला। डॉ अशोक चटर्जी, कार्यकारी निदेशक, दूरसंचार मानक विकास सोसाइटी, भारत (टीएसडीएसआई) द्वारा 'दी ईको सिस्‍टम ‘रियल सिनारियो’- 2015 में हम कहां खड़े हैं?', पर एक अन्‍य काफी ज्ञानवर्धक एवं विचारशील महत्‍वपूर्ण व्‍याख्‍यान दिया गया, और अध्‍यक्ष- उद्योग मानकीकरण, एरिक्सन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड। श्री दिनेश चंद शर्मा, निदेशक-मानकीकरण, नीति और नियमन, सेकेंडेड यूरोपियन स्‍टेंडर्डाइजेशन एक्‍सपर्ट इन इंडिया (एसईएसईआई) ने एम2एम और आईओटी ईकोसिस्‍टम में ‘मानकों की भूमिका’ स्‍पष्‍ट की। सभी विचारकों एवं पैनल सदस्‍यों द्वारा पैनल की सभी चर्चाओं के विषयों पर भलीभांति विचार-विमर्श किया गया।

श्री सचिन पुकाले, अग्रणी विकास प्रबंधक, मशीनपल्‍स ने उन अवसरों और चुनौतियों के संदर्भ में उद्योग के परिप्रेक्ष्‍य में योगदान दिया जो भारतीय बाजार में एम2एम और आईओटी क्षेत्र के हितधारकों ने देखा। श्री स्‍वरूप डे, उत्पाद बिक्री प्रबंधक, एडवान्‍टेक इंडिया ने भारतीय बाजार के लिए उपलब्ध स्‍मार्ट सिटी समाधानों के बारे में रोचक जानकारी दी।

इंडिया एम2एम + आईओटी फोरम 2015 ने 19 फरवरी, 2015 को एक दिवसीय प्रदर्शनी की मेजबानी की। इनमें से प्रमुख प्रदर्शनीकर्ता एडवान्‍टेक इंडिया, एल्टियक्‍स इनोवेशन्‍श, एल्‍टीजॉन सिस्‍टम्‍स, भानूसॉफ्ट टेक, बिल्‍डट्रेक, कारुण्या यूनिवर्सिटी, प्रोडेप्‍ट, स्‍मार्ट 24x7 रिस्पाँस सर्विसेज, सिम्बायोसिस इंस्टीट्यूट ऑफ टेलीकॉम मैनेजमेंट (एसआईटीएम), वोडाफोन इंडिया लिमिटेड थे, जिन्‍होंने श्रोताओं के समक्ष अपने उत्‍पादों एवं प्रौद्योगिकियों का प्रदर्शन किया।

दूसरा दिन स्मार्ट शहरों और नए उद्यमों को समर्पित किया गया था। पहले आधे दिन ‘इंडिया स्‍मार्ट सिटी फोरम’-2015- ‘स्‍मार्ट सिटिज-स्‍मार्टर वर्ल्‍ड’ पर फोकस किया गया था। राष्ट्रीय शहरी मामले संस्थान (रा..का.सं.) 'इंडिया एम2एम + आईओटी फोरम 2015' के दौरान शुक्रवार को आयोजित 'भारत स्मार्ट सिटी फोरम 2015', 20 फरवरी 2015 के लिए सह-आयोजक था। विशिष्‍ट अतिथि का व्‍याख्‍यान एच.. श्री विलजर लुबी, राजदूत, भारत में एस्‍टोनिया गणतंत्र दूतावास द्वारा दिया गया जिन्‍होंने इस्‍टोनिया में तकनीकी प्रगति और इस्‍टोनिया में स्‍मार्ट शहरों के लिए जारी कार्य संबंधी कुछ मुख्‍य बातों को हाईलाईट किया। एच.. श्री विलजर लुबी, ने इस्टोनिया से मशीन-टू-मशीन और इंटरनेट ऑफ थिंग्‍स (आईओटी) स्‍पेस में उन कंपनियों के संबंध में अत्‍यधिक रूचि व्‍यक्ति की जो भारतीय बाजारों की क्षमता, विशेषकर स्‍मार्ट शहरों के लिए क्षमता का पता लगाने की इच्‍छुक थीं। प्रो. जगन शाह, निदेशक राष्ट्रीय शहरी मामले संस्थान (रा..का.सं.) ने ‘शहरों को रहनेयोग्‍य, रोजगारयोग्‍य और स्‍थायीवत बनाना’ विषय पर मुख्‍य भाषण दिया। इसके बाद, क्रमश: डॉ. अशोक चटर्जी, अध्‍यक्ष-उद्योग मानकीकरण, कार्यकारी निदेशक, टीएसडीएसआई और श्री माइकल मुल्किन, निदेशक, आईएस कम्‍यूनिकेशन लिमिटेड द्वारा ‘द स्‍मार्ट सिटी विजन-स्‍मार्ट सिटी विजन को वास्‍तविकता में बदलना’ पर स्‍मार्ट सिटी पैनल चर्चा की गई। पैनलकर्ताओं ने स्‍मार्ट शहरों के लिए रोचक एवं ज्ञानवर्धक चर्चा‍ में अपनी मूल्‍यवान सूचनाएं साझा कीं।

दिन की दूसरा आधा हिस्‍सा, एम2एम + आईओटी फोरम स्‍पेस में नवाचारी शुरूआत करने वाले उद्यमों को समर्पित था जो ‘स्‍टार्ट-अप फोरम’ का प्रतिनिधित्‍व करने एवं प्रदर्शन करने के लिए एकजुट हुए थे। एम2एम + आईओटी फोरम 2015 को वस्‍तुतः ‘स्‍टार्ट-अप फोरम प्रायोजक’ के रूप में वोडाफोन इंडिया लिमिटेड होने का गौरव प्राप्त था। श्री गोविंद राज अवसराला, अध्‍यक्ष- एंटरप्राइज मोबिलिटी, वोडाफोन इंडिया लिमिटेड ने ‘एम2एम/आईओटी साझेदारी के जरिये बड़ा विस्‍तार करना’ के बारे में अपने विचार साझा किए जिसके बाद श्री टोमाज विदोन्‍जा, सीएमओ और उपभोक्‍ता विकास, आईसीटी टेक्‍नोलॉजी नेटवर्क संस्‍थान द्वारा व्‍याख्‍यान दिया गया जिन्‍होंने ‘स्‍टार्ट-अप परिप्रेक्ष्‍य’ को हाईलाईट किया। शुरूआत करने वाली सभी कंपनियों ने एम2एम और आईओटी क्षेत्र संबंधी अपने हित पेश किए जिससे श्रोताओं के मन में कई प्रश्‍न आए और परिणामस्‍वरूप, चर्चा फलदायी एवं काफी ज्ञानवर्धक रही।