Lectures

श्री साउले द्वारा यूएस तथा एपीए के अंतर्राष्ट्रीय कार्यक्रमों में शहरी नियोजन पर प्रस्तुतिकरण दिया गया जिसमें चीन के साथ जारी अनुबंधों को भी शामिल किया गया। श्री साउले ने उल्लेख किया कि संस्कृति, पोषणीयता और आधुनिकता के बीच सामन्जस्य बिठाने पर जोर देने के लिए एपीए के वर्तमान दृष्टिकोण में वे..... पर जोर देते हैं।

1) स्मार्ट विकास
2) स्थिरता और
3) ऐतिहासिक शहरी परिदृश्य

डॉ भट्ट की प्रस्तुति में न्यूयॉर्क हेतु दीर्घकालिक नीतिगत तथा तकनीकी-आर्थिक विकल्पों पर जोर दिया गया जो शहर में उर्जा-जल प्रबंधन परिदृश्य पर वस्तुस्थिति के विश्लेषण पर आधारित था। आगे, उन्होंने कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन में कमी लाने हेतु शहर स्तर के प्रयासों तथा ऊर्जा के सभी स्तरों तक इस उत्सर्जन की निगरानी इसके उपयोग की वर्तमान क्षमताओं पर भी चर्चा की। उन्होंने मार्कल मॉडल को राष्ट्रीय स्तर से शहरी स्तर पर सुलभ कराने के अपने अनुभवों तथा इससे जुड़ी सीख के अनुभवों को भी साझा किया।

Venue : दूसरी मंजिल, सम्मेलन कक्ष, एनआईयूए


Duration : 1 घंटे

अल्फ्रेड हेरहाउसेन सोसाइटी (एएचएस), डच बैंक तथा राष्ट्रीय शहरी मामले संस्थान, मैक्रोस एल. रोजा और उटे . वेइलैंड द्वारा सह-संपादित और जोविस (2013) द्वारा प्रकाशितहस्तनिर्मित शहरीकरणः शहरों में जमीनी स्तर के प्रयासों की खोजनामक पुस्तक पर एक पैनल परिचर्चा में आपको आमंत्रित करता है, जो मुंबई, साउ पाउलो, इस्तानबुल, मेक्सिको सिटी और केप टाउन में सहभागी शहरी परियोजनाओं के अनुभवों की खोज करता है। यह परिचर्चा प्रगतिशील दुनिया में शहरों की जमीनी स्तर के प्रयासों की भूमिका की जांच करेगा जो खासकर तेजी से बढ़ते शहरीकरण के प्ररिप्रेक्ष्य में हैं।

Venue : सेमिनार हॉल, कमलादेवी कॉम्पलेक्स, इंडिया इंटरनेशनल सेंटर (आईआईसी)


Duration : 2 घंटे

Registration(s) : बंद

Contact Person
Name : नितिन बठाला
Email : nitinbathla@live.com

फिलिप रोडे, कार्यकारी निदेशक, एलएसई सिटीज ऑन रिसेंट स्टडी, गोईंग ग्रीन द्वारा एक परिचर्चा हेतु एनआईयूए आपको आमंत्रित करता है, जो 90 शहरी शासनों के एक वृहद वैश्विक सर्वेक्षण के परिणामों पर जोर देता है, साथ ही आठ शहरों में नवाचारी हरित रणनीति के केस-अध्ययन विश्लेषण पर भी बल देता है। यह शहरों द्वारा झेली जाने वाली पर्यावरणीय चुनौतियों पर हालिया दृष्टिकोण रखता है, साथ ही हरित बनने की दिशा में तथा आर्थिक वृद्धि को पोषित करने में अवसरों बाधाओं पर भी प्रकाश डालता है। सभी क्षेत्रों अर्थात्ः भूमि-उपयोग, परिवहन, भवन, उर्जा, अपशिष्ट तथा जल के प्रति शहरों की नीतिगत पहुंच पर सर्वेक्षण प्रतिवेदनों के निष्कर्षों पर भी यह बल देता है।

Venue : दूसरी मंजिल सम्मेलन कक्ष, एनआईयूए


Duration : 1.5 घंटे

Registration(s) : बंद